Menu

>>> हडप्‍पा सभ्‍यता से आजादी आंदोलन - 05

January 1, 2016
  • दिल्ली का वह सुल्तान कौन था, जिसकी मृत्यु पोलो खेलते हुए हुई - कुतुबुद्दीन ऐबक
  • कुतुबमीनार किस प्रसिद्ध शासक ने पूरा किया था - इल्तुमिश
  • दिल्ली का पहला प्रभुता-सम्पन्न सुल्तान कौन था - इल्तुतमिश
  • प्रसिद्ध फारसी त्योहार नौरोज का प्रवर्तन किसने किया - बलबन
  • उत्तरी भारत की प्रथम मुस्लिम महिला शासक थी - रजिया सुल्तान
  • रजिया सुल्तान किसकी बेटी थी - अल्तमश (इल्तुतमिश) की
  • दिल्ली के खिलजी सुल्तान थे - तुर्क
  • दिल्ली के किस सुल्तान ने एक रोजगार विभाग, एक दान विभाग और एक परोपकारी चिकित्सालय की स्थापना की - फिरोज तुगलक
  • स्वयं को दूसरा सिकन्दर (सिकन्दर्र-ए-सानी) कहने वाला सुल्तान था -  अलाउद्दीन खिलजी
  • किसके शासन काल में सबसे अधिक मंगोल आक्रमण हुए - अलाउद्दीन खिलजी
  • सल्तनत वंश की विशालतम स्थायी सेना, जिसका भुगतान सीधा राज्य द्वारा किया जाता था, बनाई थी - अलाउद्दीन खिलजी
  • मलिक काफूर ‘सेनापति’ था - अलाउद्दीन खिलजी
  • दिल्ली के प्रथम सुल्तान जिन्होंने दक्षिण भारत को पराजित करने का प्रयास किया - अलाउद्दीन खिलजी
  • किस खिलजी शासक ने दिल्ली के राजसिंहासन पर बैठने के लिए अपने ससुर की हत्या कर दी थी – अलाउद्दीनखिलजी
  • मुदरई तक सफलतापूर्वक बढ़ने वाला दिल्ली का जनरल कौन था - मलिक काफूर
  • वह सुल्तान कौन था जिसने खलीफा के अधिकार को मानने से इंकार कर दिया था - अलाउद्दीन खिलजी
  • दिल्ली के सुल्तानों में से किस इतिहासकारों ने विरोधाभासों का मिश्रण बताया - मुहम्मद-बिन-तुगलक
  • मुहम्मद-बिन-तुगलक निपुण था - दर्शन में
  • सन् 1329 और 1330 के बीच किसने तांबे के सिक्कों के रूप प्रमाण-स्वरूप मुद्रा प्रचलित की थी  - मुहम्मद-बिन-तुगलक
  • कुतुबमीनार को जैसे हम आज उसे देखते है, अंततः पुननिर्माण किया गया था - फिरोजशाह तुगलक द्वारा
  • किस वंश के सुल्तानों ने 1320-1414 ई॰ तक शासन किया था - तुगलक वंश
  • भारत में चिश्ती सिलसिले को किसने स्थापित किया - शेख मुईनुद्दीन चिश्ती
  • प्रथम भक्ति आन्दोलन का आयोजन किसने किया था - रामानुजाचार्य
  • अमीर खुसरो एक थे - सूफी सन्त, फारसी तथा हिन्दी का लेखक और विद्वान इतिहासकार
  • वह सूफी संत कौन था जो यह मानता था कि भक्ति संगीत ईश्वर के निकट पहुँचने का मार्ग है - शेख मुईनुद्दीन चिश्ती
  • संत कबीर के गुरू कौन थे - रामानंद
  • भक्ति एवं सूफी आन्दोलन के सन्तों का योगदान था - धार्मिक सद्भाव में
  • अजमेर में किस सूफी फकीर की दरगाह है - मुईनुद्दीन चिश्ती

Go Back

Comment


--------------------------- विज्ञापन ---------------------------

--------------------------- विज्ञापन ---------------------------