Menu

• भारत-सीएलएमवी बिजनेस कॉनक्लेव का उद्घाटन

पार्टनरशिप से मिलेगी विकास को गति

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि राजस्थान तथा दक्षिणी-पूर्वी एशिया के महत्वपूर्ण देश कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम कई क्षेत्रों में अहम व्यवसायिक साझीदार बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान एक कामयाब बिजनेस पार्टनर है। जापान और सिंगापुर के साथ हमारे सफल संबंध इसका उदाहरण हैं। श्रीमती राजे सोमवार को होटल आईटीसी राजपूताना शेरेटन में चौथे भारत- कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम (सीएलएमवी) बिजनेस कॉनक्लेव के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि हम कृषि, मैन्यूफेक्चरिंग, ज्वैलरी, पर्यटन और कौशल विकास आदि क्षेत्रों में विकास के लिये सीएलएमवी देशों के साथ सहयोग बढा सकते हैं। सीएलएमवी देशों कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम के उद्यमियों तथा सरकारों को राजस्थान के साथ बिजनेस और निवेश में भागीदार बनने का आमंत्रण देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके जरिये हम अपने-अपने देशों तथा प्रदेश के सामाजिक-आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सब जानते हैं कि म्यांमार कीमती पत्थर रूबी के लिये विश्व प्रसिद्ध है। इसी तरह जयपुर विश्व में रंगीन जेमस्टोन के व्यापार का सबसे बडा केन्द्र है। हमारे यहां के कुशल कारीगर कीमती पत्थरों को तराशने में सिद्धहस्त हैं। इस क्षेत्र में परस्पर सहयोग से हम काफी लाभ उठा सकते हैं। श्रीमती राजे ने इस कॉनक्लेव में भाग लेने आए विदेशी प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वे एक बार जयपुर सहित राजस्थान के पर्यटन स्थल को जरूर देखें। उन्होंने कहा कि राजस्थान अपने गौरवशाली इतिहास, महत्वपूर्ण पुरास्मारकों, किलों तथा यहां की रंग-बिरंगी संस्कृति के कारण आपको खूब भायेगा।

केन्द्रीय वाणिज्य राज्यमंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह कॉनक्लेव हमारे देश की लुक-ईस्ट और एक्ट-ईस्ट नीतियों का महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह अत्यंत महत्वपूर्ण बात है कि इस बार इसके आयोजन का जिम्मा राजस्थान को मिला है। क्योंकि राजस्थान मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की विजनरी लीडरशिप के कारण व्यापार और उद्योग के क्षेत्र में आज अग्रणी राज्य बन गया है। श्रीमती सीतारमण ने सितम्बर माह में जयपुर में होने वाले अन्तर्राष्ट्रीय टैक्सटाइल फेयर ‘वस्त्र‘-2017 के लिये सीएलएमवी देशों के प्रतिनिधियों को राजस्थान सरकार की ओर से आमंत्रित किया।

सत्र को म्यांमार के मिनिस्टर ऑफ कॉमर्स डॉ. थान मिन्ट, वियतनाम के वाइस मिनिस्टर ऑफ इंडस्ट्री एंड कॉमर्स श्री काओ क्यूओ हंग, सीआईआई के प्रेसिडेंट डॉ. नौशाद फॉर्ब्स तथा महानिदेशक श्री चन्द्रजीत बनर्जी ने भी संबोधित किया। कॉनक्लेव के उद्घाटन सत्र के बाद श्रीमती राजे ने केन्द्रीय वाणिज्य मंत्री डॉ. सीतारमण, सीएलएमवी देशों के प्रतिनिधियों तथा सीआईआई के पदाधिकारियों के साथ व्यापार एवं उद्योग के क्षेत्र में चर्चा भी की।

Go Back

job



Comment

.

Loading...

--------------------------- विज्ञापन ---------------------------